मोटी गांडवाला सांड ! – New Sex Story

पर्वी लेडी ( pervy lady ) नाम से एक 59 साल की कामुक महिला एक क्लब चलाती है। क्लब के सदस्य झुंड में इकट्ठे हो कर पर्वी लेडी के रंगमंच पर लाइव चुदाई अर्थात खुलकर नंगी चुदाई देखते हैं। रंगमंच पर खास कलाकार ही ये करतब करते हैं। पर्वी लेडी रस लेकर उन मर्दों को उत्तेजित करती है जो कम उम्र की छोरियों को बीभत्स ढंग से चोदते हैं। उस समय उसके मांसल मोटे गालों पर अद्भुत खुशी आर ओठों पर लालसा, मदकामुकता, और कुत्सित रस की लार आ टपकती है। वह मंच पर अक्सर पुलिस की ड्रेस में होती है और एक डंडे से टुन्नी-मुन्नी छोकरियों के नाज़ुक गुप्तांगों पर प्रहार करती है। लगभग 60 लोग एक बार में यह घिनौनी चुदाई जरूर देखते।

रंगमंच पर अक्सर ही 15-17 साल की कमसिन कन्याओं को उनकी उम्र से 50 और 60 वर्ष बड़े, — बहुत बलिष्ट, मोटे-मोटे, हट्टेकट्टे मर्द हर तरह से रगड़ पछाड़ते हैं। ये मर्द बहुत डरावने, गंजी टाट वाले और वहशी टाइप होते हैं। कुछ की लंबी-बड़ी दाढ़ी होती है तो कोई कोई बिच्छू जैसी मूंछ रखे होता है। इनके लंड 8 इंच या 9 इंच के होते है, कालिंदर सांप से फण फुफकारते। इनके अंडकोश भी मोटे व भारी होते हैं। आसपास घनी झांटों का झुरमुट भी कई बार होता है।

पर्वी लेडी बहुत मज़ा ले-ले रंगमंच के कलाकारों के करतब देखती है। ऐसे समय वह कुछ मुस्करा और फिर अपने ओठों पर लपलप जीभ फिरा; रस ले-ले कर अपनी कामुक इच्छाएं पूरी करती है।

आज मंच पर कुल तीन कन्याएँ 15, 16 व 17 साल की थीं। कई बार इससे कम उम्र की लड़कियां भी हथकड़ी जकड़ लाई जाती हैं। आज जिन तीन कन्याओं को रौंदना था वे तीन धर्म की थीं। सीताबाला 15 वर्ष की हिन्दू, लज्जाकौर 16 वर्ष की सिक्ख, और मिस मारिया, 17 वर्ष की क्रिस्टन ( chrstian ) थी। इन तीनों ही को घातक ढंग से तड़फा कर चोदने को एक 67 वर्ष का बहुत बांका-बलिष्ट, सांड जैसी गांड वाला राजपूत राठौड़ था। इसका हर अंग भारी-वजनी, मोटा व पुष्ट था। भरकम छाती रोओं वाली, पेट आगे आया हुआ, जांघें मस्त चौड़ी और गांड बहुत ही भारी व चौड़ी चकली थी।

पहला खेल 15 व 16 साल की कन्या के साथ खेलना था। देखो तो, 67 वर्ष का भोंकल सिंह राठौड़ सीताबाला और लज्जाकौर को तार-तार नंगी कर के, उन दोनों को चूत की ओर से चिपटाया। राठौड़ ने पहली ही खेप में सीताबाला की मधुर, कमसिन गांड में अपना लौड़ा घुस्साने उस पर इस तरह चाहा जिससे कि उसकी मोटी चौड़ी गांड दर्शकों को दिखती रहे। उसकी गांड के दोनों गोलक बहुत भारी, कड़े व मोटे मटक्क थे। जैसे ही सीताबाला की गांड में उसका लं ड मारना चालू रखा। घप्प से घुसा वह दर्द से बिलबिला उठी। उसकी सांसें फूल गई। उसी क्षण राठौड़ ने लज्जाकौर की गांड के छेद में भी अपनी मोती अंगुल घुसा-घुसा उसे तड़फना शुरू किया। लज्जाकौर भी बिलख रही थी। बहुत देर इन दोनों के साथ कुत्सित कर्म करने पर इन दो कन्याओं की आँखों में आँसू आ गए। पर राठौड़ ने गांड मारना चालू रखा। उसने फिर लज्जाकौर की गांड में अपना लौड़ा धचकाया और सीताबाला की गांड के छेद में मज़ा ले-ले कर दो अंगुल एक साथ ग़ुस्सा दी। वो तो छींख उठी।

This content appeared first on new sex story . com

ठीक इस वक्त पर्वी लेडी ने 17 साल की मारिया को हुकुम किया कि वो राठौड़ की गांड चाटे, उसकी गांड के छेद में अपनी जीभ घुसा उसे मज़ा दे।

राठौड़ दूसरी खेप में 15 वर्ष की सीताबाला को बोला कि वो उसके सुंदर मुखड़े पर अपनी भारीभरकम गांड टिकाएगा और उसे उसकी गांड का छेद रस लेकर चाटना होगा। फिर लौड़ा और अंडकोश भी मुंह में भरना है। सीता बाला को सांस रोक रोक कर यह निर्लज्ज घिनौना कर्म करना पड़ा। उस वक्त पर्वी लेडी ने उसके सिर को अपने पैरों से रौंदा। उसके सिर के बाल खींचे, व कन्या के गोरे पेट पर लात जमाई।

आगे की खेप में राठौड़ ने 17 साल की मारिया के मस्त मम्मे अपने पैरों के पंजों से रगड़े, और उसकी गांड में भी पंजे मारे।

More from Hindi Sex Stories

Leave a Reply